देश में Corona Vaccine की कमी नहीं, कुछ राज्यों की शिकायतों के बीच बोले स्वास्थ्य मंत्री


नई दिल्ली/मुंबई: भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के मामलों की तेज रफ्तार के बीच सरकार 11 अप्रैल से राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में उन सरकारी एवं निजी कार्यस्थलों पर कोविड-19 (Covid-19) टीकाकरण की इजाजत दे दी है. जहां इसकी पात्रता रखने वाले करीब 100 लाभार्थी होंगे. केंद्र ने महाराष्ट्र और कुछ अन्य गैर बीजेपी शासित राज्यों की शिकायतों के बीच यह भी कहा कि देश में कोविड रोधी टीके की कोई कमी नहीं है.

ध्यान भटकाने की कोशिश: स्वास्थ्य मंत्री

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने महाराष्ट्र और कुछ अन्य राज्यों पर बुधवार को हमला बोला और उनपर पात्रता रखने वाले पर्याप्त संख्या में लाभार्थियों को टीका लगाए बिना सभी के लिए टीकों की मांग कर लोगों में दहशत फैलाने तथा अपनी ‘विफलताएं’ छिपाने की कोशिश करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि टीकों की कमी को लेकर महाराष्ट्र (Maharashtra) के सरकारी प्रतिनिधियों के बयान और कुछ नहीं, बल्कि वैश्विक महामारी के प्रसार को रोकने की महाराष्ट्र सरकार की बार-बार की विफलताओं से ध्यान भटकाने की कोशिश है.

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री का बयान

इससे पहले बुधवार को महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा था कि राज्य के पास कोरोना वैक्सीन की सिर्फ 14 लाख डोज बची हैं जो तीन दिन ही चल पाएंगी और टीकों की कमी के कारण कई टीकाकरण केंद्र बंद करने पड़ रहे हैं. टोपे ने संवाददाताओं से कहा कि ऐसे टीकाकरण केंद्रों पर आ रहे लोगों को वापस भेजा जा रहा है क्योंकि टीके की खुराकों की आपूर्ति नहीं हुई है. टोपे ने कहा कि राज्य सरकार पूर्व में एक दिन में चार लाख लोगों का टीकाकरण कर रही थी.

राहुल गांधी ने उठाए थे सवाल

इस बीच, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश के सभी नागरिकों के लिए कोरोना के टीके की पैरवी करते हुए आज कहा कि इस टीके की जरूरत को लेकर बहस करना हास्यास्पद है तथा हर भारतीय सुरक्षित जीवन का मौका पाने का हकदार है. उन्होंने ‘कोविड वैक्सीन’ हैशटैग से ट्वीट किया, ‘जरूरत और मर्जी को लेकर बहस करना हास्यास्पद है. हर भारतीय सुरक्षित जीवन का मौका पाने का हकदार है.’

इन मुख्यमंत्रियों ने की थी मांग

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने भी इसी तरह की मांग की थी. गौरतलब है कि पूरे देश में कोरोना वायरस के खिलाफ चल रहे टीकाकरण अभियान के तहत वर्तमान में 45 साल और इससे अधिक उम्र के लोग ही टीका लगवा सकते हैं. वहीं ओडिशा के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अवर मुख्य सचिव पी के महापात्रा ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखकर राज्य में टीकाकरण सुचारू ढंग से चलाने के लिए कोविशील्ड की 15-20 लाख खुराक देने का अनुरोध किया था.

LIVE TV
 



[GET MORE HINDI NEWS HERE : https://hindi.livenewsindia.net/ ]

Source hyperlink

Related Articles

BEST DEALS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles